fbpx
Drumroll New Website Launch Email Header by real moment
Home NEWS INTERNATIONAL NEWS वोडाफोन सरकार के खिलाफ 20,000 करोड़ का टैक्स आर्बिट्रेशन केस जीता ;...

वोडाफोन सरकार के खिलाफ 20,000 करोड़ का टैक्स आर्बिट्रेशन केस जीता ; जाने पूरा मामला

दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी वोडाफोन ने शुक्रवार को वैश्विक न्यायालय में 20,000 करोड़ डॉलर से अधिक के भारतीय प्राधिकरणों के उस फैसले को जीत लिया, जिसे उसने अन्यायपूर्ण बताया था।

द हेग में वैश्विक मध्यस्थता न्यायाधिकरण ने फैसला सुनाया कि वोडाफोन पर भारत सरकार का कर दायित्व भारत और नीदरलैंड के बीच निवेश संधि व्यवस्था के उल्लंघन में है, सूत्रों ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया।

वोडाफोन सरकार के खिलाफ 20,000 करोड़ का टैक्स आर्बिट्रेशन केस जीता ; जाने पूरा मामला

ट्रिब्यूनल ने अपने फैसले में कहा कि अधिकारियों को वोडाफोन से बकाया की तलाश करनी चाहिए और अपने कानूनी खर्चों के लिए आंशिक प्रतिपूर्ति के रूप में कारोबार के लिए 40 करोड़ डॉलर से अधिक का भुगतान करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें– सुशांत सिंह राजपूत केस: रकुल प्रीत सिंह ने रिया चक्रवर्ती के साथ चैट करने की बात कबूली

अनुराधा दत्त ने कहा, “वोडाफोन को न्याय मिला है। भारत सरकार पूर्ववत किए गए कर के फिर से लागू होने की उम्मीद के साथ सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाती है। न्यायाधिकरण ने कहा है कि यह गतिविधि उनकी द्विपक्षीय निवेश संधि का उल्लंघन है,” अनुराधा दत्त, प्रबंध वोडाफोन के लिए काम करने वाली नई दिल्ली की कंपनी DMD एडवोकेट्स के पार्टनर ने बताया।

वोडाफोन और वित्त मंत्रालय ने टिप्पणी के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया।

ब्याज में 12,000 करोड़ डॉलर और 7,900 करोड़ डॉलर के बीच कर विवाद वोडाफोन द्वारा 2007 में हचिसन व्हामपोआ से भारतीय सेलुलर संसाधनों की खरीद से उपजा है। अधिकारियों ने कहा कि वोडाफोन खरीद के लिए करों का भुगतान करने के लिए जिम्मेदार था, जिसे फर्म ने चुनाव लड़ा था।

यह भी पढ़ें-सुनील गावस्कर के बातो का अनुष्का शर्मा ने दिया जवाब, जाने क्या था जवाब में 

2012 में, भारत की शीर्ष अदालत ने इस दूरसंचार आपूर्तिकर्ता के पक्ष में फैसला सुनाया, लेकिन अधिकारियों ने बाद में उस वर्ष के नियमों को बदलकर इसे कराधान की कीमतों के लिए अनुमति दे दी, जो निष्कर्ष निकाला गया था।

भारत कारोबार के खिलाफ एक दर्जन से अधिक अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता मामलों में उलझा हुआ है, जैसे कि केयर्न एनर्जी, पूर्वव्यापी कर बयानों और अनुबंधों के पुनर्विक्रय पर। जब यह खो देता है तो सरकारी खजाने को हजारों करोड़ का भुगतान करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें-‘कानून से ऊपर नहीं कंगना, अगर वो ड्रग एडिक्ट हैं तो होनी चाहिए जांच’, बोले बीजेपी नेता

एक अन्य परिस्थिति में, भारी आबादी वाली दूरसंचार कंपनी ने इस महीने से पहले कोई भी जीत हासिल की थी क्योंकि उच्चतम न्यायालय ने सरकारी धनवापसी में हजारों करोड़ रुपये चुकाने के लिए सेलुलर कैरियर को 10 साल का समय दिया था।

भारत के दूरसंचार आपूर्तिकर्ताओं को दूरसंचार विभाग को समायोजित सकल राजस्व (AGR) का लगभग 3-5 प्रतिशत एयरवे के लिए उपयोग शुल्क और AGR का 8 प्रतिशत लाइसेंस शुल्क के रूप में भुगतान करने की आवश्यकता है। उन्होंने एजीआर की परिभाषा को विवादित किया है लेकिन पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की राय घोषित की कि एजीआर में सभी कमाई शामिल होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें-

रकुल प्रीत सिंह NCB पहुंची, दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर को भी एनसीबी ने तलब किया है।

Ayushmann Khurrana In Time 100 List: दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल अकेले भारतीय एक्टर आयुष्मान खुराना

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बिहार विधानसभा चुनाव: नीतीश कुमार की जेडी (यू) JDU और बीजेपी 122-121 सीटों के बटवारा तय

एनडीए NDA बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए  सीट-बंटवारे के फॉर्मूले पर पहुंच गया है नीतीश कुमार की जेडी (यू) को 122 सीटें आवंटित...

IPL 2020 DC vs RCB HIGHLIGHTS Delhi Capitals ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 59 रनों से हराया,

IPL 2020 DC vs RCB HIGHLIGHTS दिल्ली Delhi Capitals ने सोमवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को दुबई में 59 रनों से हरा दिया कगिसो...

JEE Advanced Result 2020 DECLARED: JEE एडवांस्ड रैंक लिस्ट @ jeeadv.ac.in देखें

JEE Advanced Result 2020: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) दिल्ली ने आज JEE Advanced Result 2020 परिणाम घोषित कर दिया है। यहां बताया गया है...

Hathras Case: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस केस की जांच CBI से कराए जाने के दिए आदेश

Hathras Case मुख्यमंत्री दफ्तर की ओर से सीबीआइ जांच की सिफारिश की जानकारी देने के कुछ देर बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद ट्वीट कर कहा...