fbpx
Drumroll New Website Launch Email Header by real moment
Home NEWS यूपी सरकार समूह ख व ग भर्ती प्रक्रिया बदलने जा रही...

यूपी सरकार समूह ख व ग भर्ती प्रक्रिया बदलने जा रही है इन दोनों वर्गों में नियुक्ति पाने वालों को पांच सालों तक संविदा पर

राज्य सरकार समूहग की भर्ती प्रक्रिया बदलने जा रही है ख व । इसके लिए समूह ख व ग पदों पर नियुक्ति (संविदा पर) एवं विनियमितकरण नियमावली 2020 बना रही है

इसमें इन दोनों वर्गों में नियुक्ति पाने वालों को पांच सालों तक संविदा पर काम करना होगा। इस दौरान हर छह माह पर उनका मूल्यांकन किया जाएगा, जिससे धांधली कर नौकरी पाने वाले और अयोग्य कर्मियों को पकड़कर बाहर किया जा सके। अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंहल भी स्वीकार करते हैं कि इस नियमावली पर विचार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें  –दिल्ली दंगा में आरोपी JNU के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद UAPA के तहत गिरफ्तार

प्रारंभिक व मुख्य परीक्षा होगी

यूपी में धांधली कर सरकारी नौकरियां पाने का बड़ा खेल है। राज्य सरकार इसीलिए चाहती है कि समूह ख व ग की भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह से बदल दी जाए। इन भर्तियों के लिए प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा कराने पर विचार है।

प्रारंभिक परीक्षा के लिए केंद्र की तर्ज पर एक अलग एजेंसी भी बनाई जा सकती है। इनमें सर्वाधिक स्कोर करने वाले अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में शामिल होने का मौका दिया जाएगा।

मुख्य परीक्षा पास करने वालों को पहले पांच सालों तक संविदा पर नौकरी करनी होगी। इन पांच साल के दौरान कर्मचारी का छमाही मूल्यांकन होगा, जिसमें नई नौकरी पाने वालों को हर बार 60 प्रतिशत अंक लाना जरूरी होगा।

यह भी पढ़ें – गरीब बच्चों को सोनू सूद का तोहफा, मां के नाम पर शुरू की स्काॅलरशिप ; जाने कैसे उठाये लाभ

सरकार की प्रस्तावित नई व्यवस्था के तहत पांच वर्ष बाद ही नियमित नियुक्ति दी जाएगी। 60 प्रतिशत से कम अंक पाने वाले सेवा से बाहर होते रहेंगे। इन पांच सालों में कर्मचारियों को नियमित सेवकों की तरह मिलने वाले अनुमन्य सेवा संबंधी लाभ भी नहीं मिलेंगे।

सरकार के फैसले का विरोध होगा

राज्य सरकार का यह फैसला भले ही अभी नहीं हुआ है, लेकिन इसका विरोध जरूर शुरू हो गया है। भारतीय लोकसेवा कर्मचारी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीपी मिश्रा कहते हैं कि राज्य सरकार अगर इस तरह का कोई फैसला करती है तो इसका हर स्तर पर विरोध किया जाएगा।

अब पढ़िए हर एक खबर अपनी भाषा हिंदी में news-express.in पे

उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष शशि कुमार मिश्रा कहते हैं कि राज्य सरकार को ऐसा कोई फैसला नहीं करना चाहिए जिससे युवाओं का नुकसान हो। सरकारी नौकरी पाने के लिए एक बार परीक्षा से गुजरने की व्यवस्था है। संविदा भर्ती प्रकिया अलग है और नियमित भर्ती प्रक्रिया अलग इसलिए राज्य सरकार को इसका अंतर स्वयं समझना चाहिए ।

यह भी पढ़ें  –  अंकिता लोखंडे अपने पार्टनर संग #Plants4SSR सोशल मीडिया कैंपेन के लिए आईं आगे

some sources from hindustan

यह भी पढ़ें                                                                                       

अनुष्का शर्मा इन दिनों अपना प्रेग्नेंसी पीरियड एंजॉय कर रही हैं ;वह विराट कोहली के साथ दुबई में हैं

रिया चक्रवर्ती ड्रग्स की जांच में सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और एनसीबी रडार पर बॉलीवुड की अन्य हस्तियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Google ने गूगल प्ले स्टोर से Paytm को हटाया, App हटाने के पीछे बताई ये वजह

इस पर Google ने कहा है कि वह किसी भी गैंबलिंग (जुआ खेलने वाले) ऐप का समर्थन नहीं करता है. जुए से जुड़ी उसकी...

Sushant Singh Death News: एम्स फॉरेंसिक टीम की रिपोर्ट होगी निर्णायक, सुशांत की ‘मौत’ को लेकर खत्म होगा सस्पेंस

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का राज अब खुलने ही वाला है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की फॉरेंसिक टीम की अपनी रिपोर्ट...

IPL 2020 शुरू होने से एक दिन पहले बदला नियम, जाने अब हर टीम में होंगे सिर्फ कितने खिलाड़ी

IPL 2020 शुरू होने से एक दिन पहले बदला नियम, अब हर टीम में होंगे सिर्फ 17 खिलाड़ी IPL 2020 को शुरू होने में अब...

नीति आयोग के सीईओ ने कहाँ भारतीय रेल और निवेशकों दोनों के पक्ष में है रेलवे का निजीकरण ,जाने कैसे ?

भारतीय रेल में निजीकरण को लेकर नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत होने वाले फायदों को गिनाया। अमिताभ कांत...

Recent Comments